Is SMO More Beneficial than SEO
5 (100%) 1 vote

बिना किसी तरह की ऑनलाइन उपस्तिथि (Online Presence) के एक सफल संस्थान (Successful Organization) चलाना, आज के समय मे आसान कार्य नही. आप किसी भी क्षेत्र मे देखे, इंटरनेट आपके बिज़नेस और ग्राहको के बीच के संबंध को काफ़ी प्रभावित करता हैं. प्रतियोगिता के इस दौर मे, किसी भी तरह आप पीछे नही रहना चाहेंगे. आजकल लोग किसी भी बिजनेस से तीन प्रकार से जुड़ पाते हैं;

  • आपकी बिजनेस वेबसाइट सर्च इंजन रिजल्ट के प्रथम दस परिणामो मे से एक हैं
  • कोई उनको आपके बिजनेस के बारे मे अच्छी बाते बताकर आपकी एक सिफारिश (recommend) करता हैं
  • उन्होने आपके बारे मे कही सुना हैं और वो आपके बिजनेस के बारे मे जानकारी लेना (inquiry about your business) चाहते हैं

यदि आप भी इन तीनो परिस्तिथियो से सहमत हैं तो आपके बिजनेस के लिए एस ई ओ (SEO) और एस एम ओ (SMO) दो महत्वपूर्ण शब्द बन जाते हैं और इस पोस्ट की सहायता से हम आज आपको इनके बारे मे एक विश्लेषण प्रस्तुत करेंगे.

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन आपकी बिजनेस वेबसाइट की रेंकिंग को सुधारने मे सहायता करता हैं और उपर बताई गयी पहली परिस्तिथि मे बेहद सहायक भी सिद्ध होता हैं. वही दूसरी ओर, सोशल मीडीया ऑप्टिमाइजेशन, अगली दो परिस्तिथियो मे आपके बिजनेस के लिए बेहद लाभदायक हो सकता हैं. अक्सर, डिजिटल मार्केटिंग के बारे मे सोचते समय यह सवाल भी सामने आ जाता हैं कि बिजनेस के लिए, इनमे से कौन सा बेहतर हैं.

आप भी शायद यह सोच रहे हो कि एस ई ओ पर अपना पूर्ण ध्यान लगाया जाए या फिर एस एम ओ की सहायता से अपने लक्ष्यो की ओर बढ़ा जाए.

क्या एस ई ओ, एस एम ओ से बेहतर है (Is SEO better than SMO)?

यह सत्य हैं कि एस ई ओ, एस एम ओ के मुक़ाबले ज़्यादा चर्चा मे हैं. गूगल ने भी यह साफ कर दिया हैं कि सोशल मीडीया का रेंकिंग एल्गोरिदम मे कोई विशेष योगदान नही हैं. परंतु, फिर भी एस एम ओ (SMO) ने अपना एक महत्व सभी एक्सपर्ट के दिमाग़ मे बना लिया हैं. शायद ही कोई डिजिटल मार्केटिंग एक्सपर्ट आपको एस एम ओ पर ध्यान ना देने की सलाह दे.

इसका मुख्य कारण सोशल मीडीया की बढ़ती लोकप्रियता हैं. उपर बताई गयी, परिस्तिथियो मे से दो परिस्तिथियो से लाभान्वित होना, सोशल मीडीया के द्वारा संभव हैं. गाँव हो या शहर, आपका संभावित ग्राहक (Potential Customer) फेसबुक जैसे किसी ना किसी सोशल मीडीया साइट पर उपलब्ध हैं और आप उस तक चित्रो या वीडियो के द्वारा अपने बिजनेस की विशेषताए आसानी से पहुचा सकते हैं. इसके माध्यम से कम समय मे बड़े तबके (Huge Crowd) को प्रभावित किया जा सकता हैं.

परंतु, अपने बिजनेस की सोशल मीडीया पर ऐसी पहुच बना पाना आसान नही हैं. अतः एस ई ओ की महतवता को नकारा नही जा सकता. एक्सपर्ट्स भी मानते हैं कि एस एम ओ आपको नये ग्राहक देने मे उतना सक्षम नही हैं. इसका प्रयोग ज़्यादातर, पुराने ग्राहको से संबंध बेहतर रखने मे कामयाब रहता हैं. यदि बिजनेस वेबसाइट का पूर्ण लाभ चाहिए तो, एस ई ओ के साथ साथ एस एम ओ पर भी थोडा ध्यान अवश्य दे.

दोनो पर ध्यान देने के क्या फायदे हैं (What Are The Advantages Of Focusing On Both)?

अगर आप ध्यान से दोनो तरीक़ो के फायदो को समझे तो आप भी इनको साथ लेकर चलना पसंद करेंगे. एस एम ओ, आपको ग्राहको से सीधे व्यक्तिगत रूप से जुड़ने का मौका देता हैं और एस ई ओ, आपकी बिजनेस वेबसाइट को सर्च इंजन रिज़ल्ट्स पर एक अच्छी जगह दिलाता हैं. मतलब, इन दोनो का सही तरह से प्रयोग करके आप उपर बताई गयी तीनो संभावित परिस्तिथियो मे अपने बिजनेस को लाभ पहुचा सकते हैं.

परंतु, इन दोनो के ही प्रयोग मे, सबसे महत्वपूर्ण कार्य कॉंटेंट की क्वालिटी का होता हैं. यदि आप बेहतर तरीक़ो से जानकारी दे पा रहे हैं, तभी अच्छे परिणामो की उम्मीद रखिएगा. गूगल समय समय पर नये एल्गोरिदम अपडेट्स लाता रहता हैं. जिससे वेबसाइट की रेंकिग पर असर आ सकता हैं. ऐसे मे एस ई ओ से बेहतर एस एम ओ आपके बिजनेस को लाभ पहुचा सकता हैं.

सीधे तौर पर किसी एक को दूसरे से बेहतर कह पाना संभव नही हैं. किसी एक बिजनेस के लिए, एस ई ओ से ज़्यादा एस एम ओ लाभदायक हो सकता हैं. तो, वही किसी दूसरे बिजनेस के लिए एस एम ओ से ज़्यादा एस ई ओ लाभदायक हो सकता हैं. अतः हमारी सलाह तो दोनो को परस्पर साथ लेकर चलने की हैं. आपको केवल कॉंटेंट की क्वालिटी को संभाले रखना हैं, एस ई ओ और एस एम ओ, दोनो से ही बेहतर परिणाम आपको मिलते रहेंगे.

नोट – हम अपने सभी visitors से अनुरोध करते है की अगर आप को ये ब्लॉग हेल्पफुल लगा हो तो अपने सभी मित्रो के साथ सांझा करे और देखते रहे और सीखते रहे धन्यवाद् |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here