All Google Update
5 (100%) 4 votes

संभव है कि आज भी आपने गूगल सर्च इंजन (Google Search Engine) का प्रयोग किया हो। प्रतिदिन, अनगिनत लोग इस सर्च इंजन का उपयोग करते हैं। कभी आपने सोचा हैं कि ये सर्च इंजन कैसे वर्क करते हैं।

जब भी आप किसी जानकारी के लिए, गूगल या किसी और सर्च इंजन का उपयोग करते हैं, तो वह सर्च इंजन आपको उपलब्ध हज़ारो साइट्स मे से कुछ उपयुक्त साइट्स के लिंक्स की एक सूची (List) बना कर दे देता हैं। ऐसा करने के लिए, किसी प्रकार के कोडिंग का प्रयोग अवशय होता होगा। इस प्रकार सेलेक्टेड साइट्स की लिस्ट के लिए, कुछ ना कुछ नियमो का पालन करते हुए, एक सर्च इंजन आप तक उपयुक्त जानकारी पहुचाता होगा। जी हाँ, इसी को हम, सर्च इंजन एल्गोरिदम (Search Engine Algorithm) कहते हैं।

सर्च इंजन, आप तक उपयुक्त जानकारी पहुचाए इसके लिए निम्नलिखित तीन लक्षयो की प्राप्ति ही किसी सर्च इंजन एल्गोरिदम का आधार होती हैं –

  • जो भी साइट्स आपकी सर्च क्वीरी (Search Query) से संबंधित नही हैं, उनको लिस्ट से हटाना।
  • केवल संबंधित साइट्स को ही लिस्ट मे रखना।
  • लिस्ट मे रखी गयी साइट्स को उनकी उपयुक्तता (Relative Importance) के आधार पर रैंक (Rank) करना।

गूगल सर्च इंजन एल्गोरिदम से संबंधित कुछ मुख्य बिन्दू (Important Points About Google Search Engine Algorithm)

अनगिनत इंटरनेट यूज़र्स के लिए, कई सारे सर्च इंजन उपलब्ध हैं। परंतु, अधिकांश यूज़र्स गूगल का ही उपयोग करते हैं। अतः इंटरनेट मार्केटिंग विशेषज्ञ, गूगल के सर्च इंजन एल्गोरिदम को समझने पर ज़्यादा ज़ोर देते हैं। यदि आप इस एल्गोरिदम को समझ पाए तो आप किसी भी साइट को अच्छी रेंक दिलाने मे कामयाब हो पाएँगे।

गूगल सर्च इंजन एल्गोरिदम के बारे मे कई विशेषज्ञो ने अपने ब्लॉग्स और वेबसाइट पर काफ़ी लिखा हैं। परंतु, यह इतना जटिल एल्गोरिदम हैं कि इसका संपूर्ण ज्ञान आपको किसी भी एक ब्लॉग या वेबसाइट से प्राप्त नही हो सकता।

लिंक अथोरिटि (Link Authority) – गूगल किसी साइट को अच्छी रेंक देने से पहले, उसके ओर आते लिंक्स (incoming links), एंकर टेक्स्ट (Anchor Text) और लिंक्ड साइट्स की गुणवत्ता का आंकलन करता हैं।

ऑनपेज फेक्टर्स (On-page Factors) – गूगल किसी साइट के कुछ ऑन-पेज फेक्टर्स जैसे, पेज लोडिंग स्पीड, टाईटल टैग्स, मोबाइल उपयुक्त डिज़ाइन (Mobile-friendly Design) को भी रैंकिग देते वक्त आंकलन (Evaluate) करता हैं।

कॉंटेंट क्वालिटी (Content Quality) – गूगल वेबसाइट पर उपलब्ध लिखित जानकारी, नये कॉंटेंट को उपलब्ध कराने की बारंबारता (Frequency of Content Posting), कॉंटेंट को साइट के यूज़र्स द्वारा शेयर करने की बारंबारता (Frequency of Shared Content) को महत्व देता हैं।

गूगल सर्च इंजन एल्गोरिदम से संबंधित अपडेट्स (Updates in Google Search Engine Algorithm)

ये कुछ मुख्य बिन्दू हैं, जिनको ध्यान मे रख कर आप किसी वेबसाइट की गूगल सर्च इंजन रैंकिग को अच्छा कर सकते हैं। परंतु, ये बेहद ही सूक्ष्म जानकारी हैं। गूगल सर्च इंजन का एल्गोरिदम बेहद जटिल हैं। और, अत्यधिक मेहनत करके अगर आप इन मुख्य कारको से ज़्यादा कुछ समझ भी लेते हैं, तो गूगल निरंतर रूप से अपने सर्च इंजन को अपडेट करके आपको सदेव इसके पूर्ण ज्ञान से दूर ही रखता हैं।

अतः हम सुझाव देंगे कि आप इन मुख्य कारको को समझे, इनका सदेव स्मरण रखे और गूगल के अब तक आए सभी अपडेट्स को भी समझे। यदि आप इन जानकारियो को ठीक से समझकर कार्य करेंगे तो हमेशा अपनी वेबसाइट को गूगल सर्च इंजन पर अच्छी रेंक दिला पाएँगे।

आइए, जानते हैं गूगल के अब तक आए कुछ मुख्य अपडेट्स के बारे मे;

गूगल पांडा अपडेट (Google Panda Update)

फ़रवरी 2011 मे, अपने सर्च इंजन को और प्रभावशाली बनाने के लिए, गूगल ने गूगल पांडा अपडेट का प्रयोग किया। अपने सर्च इंजन एल्गोरिदम को बेहतर बनाने के लिए, गूगल इसके पहले भी कुछ छोटे मोटे अपडेट्स करता रहता था। परंतु, गूगल पांडा अपडेट उस समय तक का सबसे बड़ा अपडेट था। इस गूगल अपडेट (Google Update) ने इंटरनेट मार्केटिंग जगत को काफ़ी ज़्यादा प्रभावित किया।।।

अधिक जानकारी के लिए; यहाँ क्लिक करे!

गूगल पेंगुइन अपडेट (Google Penguin Update)

किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग की सर्च इंजन रैंकिग पोज़िशन (SERP) पर वेबसाइट या ब्लॉग की ओर आते लिंक्स (Incoming Links) का बेहद प्रभाव पड़ता हैं। अपनी वेबसाइट की रैंकिग को बेहतर करने के लिए लिंक बनाने की Black Hat SEO Techniques को प्रयोग मे लाने वाले वेबमास्टर्स के लिए, गूगल पेंगुइन अपडेट (Google Penguin Update) बेहद कठिन समय लेकर आया था।

इसके बारे मे और जानने के लिए यहाँ क्लिक करे।

गूगल हममिंगबर्ड अपडेट (Google Hummingbird Update)

लगभग दो साल पहले आए इस अपडेट की सहायता से गूगल ने मोबाइल डिवाईसिज़ (Mobile Devices) पर होने वाली Searches को महत्व देना शुरू किया। गूगल हममिंगबर्ड को आप गूगल पेंगुइन अपडेट (Google Penguin Update) और गूगल पांडा अपडेट (Google Panda Update) के विस्तृत रूप की तरह समझ सकते हैं।

इसके बारे मे और जानने के लिए यहाँ क्लिक करे।

गूगल मोबाइल फ्रेंड्ली अपडेट (Mobilegeddon Update)

हममिंगबर्ड अपडेट (Hummingbird Update) मे जहाँ मोबाइल फ्रेंड्ली डिज़ाइन को बेहतर रेंक देने की बात कही गयी थी, वही इस बार गूगल के इस मोबाइल फ्रेंड्ली अपडेट ने एक प्रकार से सभी साइट्स ओनर्स को अपने वेबसाइट डिज़ाइन को चेंज करने के लिए मजबूर ही कर दिया था। Mobilegeddon Update, गूगल की वेबसाइट्स को रेंक करने की प्रक्रिया को बेहद प्रभावशाली तरीके से बदल देगा, इस प्रकार की चर्चा हर ओर होने लगी। आख़िर ये अपडेट क्या था?

जानने के लिए यहाँ क्लिक करे।

नोट – हम अपने सभी visitors से अनुरोध करते है की अगर आप को ये ब्लॉग हेल्पफुल लगा हो तो अपने सभी मित्रो के साथ सांझा करे और देखते रहे और सीखते रहे धन्यवाद् |
SHARE
Previous articleगूगल पांडा अपडेट (Google Panda Update) हिन्दी में
Next articleLatest SEO, SMO, PPC Jobs in Jaipur For Freshers
हेल्लो दोस्तों!मेरा नाम Nisha Sharma है, और मेरा experience डिजिटल मार्केटिंग में 3 साल से है, मुझे डिजिटल मार्केटिंग से Related Knowledge शेयर करना बहुत पसंद है जिससे आप लोगो को कुछ सिखने को मिल सके! मेरे जरिये अगर आप कुछ सीख पाएंगे तो ये मेरे लिए बहुत ही ख़ुशी की बात होगी! मै डिजिटल बादशाह में डिजिटल मार्केटिंग की सारी knowledge शेयर करुँगी जिससे आपको बहुत कुछ सिखने को मिलेगा तो दोस्तों अगर आप कुछ सीखना चाहते है तो हमारे साथ जुड़े रहें!

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here