10-old-seo-methods-you-need-to-stop
5 (100%) 2 votes

गूगल सर्च इंजन (Search Engine) पर अच्छी रेंकिंग पाने की कोशिश मे हम कई बार, काफ़ी कुछ ऐसा ग़लत कर जाते हैं, जो हमारी वेबसाइट को ही गूगल इंडेक्सिंग से बाहर कर देता हैं या गूगल की Penalty लग जाति हैं।  इस पोस्ट मे हम आपको 10 ऐसे तरीके बताएँगे जिन्हे पहले SEO के लिए प्रयोग मे लाया जाता था| परंतु, नियमित रूप से बदलते गूगल आल्गरिदम्स (Google Algorithms) के कारण, अब उनका प्रयोग आपकी वेबसाइट के लिए हानिकारक हो सकता हैं| ध्यान रहे, अगर आप अपनी वेबसाइट की अच्छी Ranking चाहते हैं, तो इन पुरानी विधियो का प्रयोग करते समय इस पोस्ट मे बताई गये Points का ध्यान ज़रूर रखे|

1) अप्रभावशाली आर्टिकल सबमिशन –  (Unimpressive Article Submissions)

अच्छी रेंक लाने के लिए आर्टिकल सबमिशन एक काफ़ी उत्तम तरीका समझा जाता था| एक्सपर्ट लिंक बिल्डिंग के लिए इसका अत्यधिक प्रयोग करते थे| परंतु, पांडा ऑप्डेट (Panda Update) आने के बाद से इस प्रकार के आसानी से प्राप्त लिंक आपकी वेबसाइट की अच्छी रेंक ला पाने मे अब उतने सहायक नही रहते|

अतः हमारी सलाह हैं कि इस प्रकार के आसानी से प्राप्त लिंक्स पर ज़्यादा काम करने के बजाय आप अन्य ब्लॉगर्स के साथ संबंध बनाने मे समय लगाए| उनसे गेस्ट पोस्ट लिखने का अनुरोध करे| इस प्रकार की गेस्ट पोस्ट्स उनके रीडर्स को आपकी वेबसाइट से जोड़ेंगी और आपके रीडर्स को उन ब्लॉगर्स से भी जोड़ेंगी| इस प्रकार से प्राप्त लिंक्स आपकी साइट के लिए ज़्यादा लाभदायक रहेंगे|

2) अप्रभावशाली प्रेस रिलीज़ – (Press Releases Without News)

प्रेस रिलीज़ भी एक पुरानी विधि हैं जिसकी सहायता से किसी वेबसाइट की रेंक मे उन्नति पहले संभव थी| लेकिन, इसका अत्याधिक प्रयोग केवल लिंक्स पाने के लिए किया जाने लगा| बिना किसी न्यूज़ के प्रेस रिलीज़ की जाने लगी, ताकि एक लिंक आपकी वेबसाइट को मिल सके|

अगर आप इस प्रकार की प्रेस रिलीज़ कर रहे हैं, तो इसको अभी रोक दीजिए क्योंकि ये आपकी वेबसाइट के लिए हानिकारक ही साबित होगा| अगर आपके पास वाकई मे कोई न्यूज़ हैं तभी प्रेस रिलीज़ का प्रयोग करे|

3) लिंक एक्सचेंज – (Reciprocal Linking & Link Exchanges)

संभवतः कोई वेबमास्टर इसका प्रयोग अब नही करता होगा| यदि आप इसका प्रयोग कर रहे हैं तो इस प्रकार प्राप्त सभी लिंक्स आपके ही लिए हानिकारक होंगे| गूगल और अन्य सर्च इंजन इन लिंक्स के लिए आपको कोई महत्व नही देंगे, अपितु आपकी वेबसाइट की रेंक को ही इससे नुकसान पहुचेगा|

4) थिन कॉंटेंट – (Creating Thin Content)

अक्सर, वेबसाइट चलाने वाले वेबमास्टर्स कॉंटेंट की क्वालिटी पर ध्यान नही देते| बहुत से वेबमास्टर्स, कॉंटेंट को किसी और से लिखवाते हैं| अगर आप अपनी वेबसाइट पर अच्छा ट्रॅफिक चाहते हैं, अगर आप चाहते हैं कि आपकी वेबसाइट को क्वालिटी लिंक्स मिले तो, अपने पोस्ट के कॉंटेंट पर नज़र रखे| केवल सर्च इंजन – के लिए ना लिखे, और पोस्ट करने से पहले अपने कॉंटेंट को जाँचे की वो आपके विजिटर्स के लिए कितना उपयोगी हैं|

5) अप्रभावशाली अटोमेशन – (Losing Your Voice Through Automation)

सोशल मीडीया साइट्स आपकी एक आवाज़ होती हैं और उनका सही प्रयोग आपकी वेबसाइट की एक बेहद अच्छी छवि भी बना सकता हैं| इसके अलावा, इनसे एक अच्छा ट्रॅफिक भी आपकी वेबसाइट तक पहुचता हैं| आप मे से अधिकांश इस बात को समझते हैं कि सोशल मीडीया साइट्स पर आपकी वेबसाइट की उपस्थिति कितनी आवशयक हैं| परंतु, इस कार्य को आसान नही समझा जा सकता| सच कहे तो, ये काफ़ी समय लगाने वाली प्रक्रिया हैं| अतः अधिकांश वेबमास्टर्स अटोमेशन टूल्स की सहायता लेना पसंद करते हैं| यह सोशल मीडीया मे अपनी छवि बनाए रखने का एक आसान तरीका लगता हैं |  परंतु, कही ना कही ये आपकी वेबसाइट की एक रोबाटिक इमेज बनाने का एक आसान तरीका भी बन जाता हैं | जो विज़िटर्स को आपकी वेबसाइट से दूर करता हैं|

6) सोशल सिग्नल ना समझना – (Ignoring Social Signals)

वैसे, काफ़ी वेबमास्टर्स सोशल सिग्नल्स की महत्वता को नही समझते| अगर आपने कोई बेहद उपयोगी इन्फर्मेशन शेयर की हैं, तो सोशल मीडीया साइट्स की सहायता से, ये काफ़ी लोगो तक आपकी वेबसाइट्स को पहुचा सकती हैं| अपनी पोस्ट्स के साथ सोशल शेयरिंग बटन्स का भी प्रयोग किया करे|

7) अप्रभावशाली प्लानिंग – (Implementing Tactics without a Strategy)

उपरोक्त सभी छः Points एक तरह से इस ही और इशारा कर रहे थे| परंतु, प्लानिंग की तरफ आपका ध्यान विशेष रूप से लाने के लिए, हमने इस पॉइंट को अलग से शेयर किया हैं| ध्यान रखे, एक प्रभावशाली प्लानिंग बेहद ज़रूरी हैं|

8) रेंकिंग पर अत्यधिक फोकस – (Focus on Rankings)

क्वालिटी कॉंटेंट और Sale Conversion कुछ मुख्य Points हैं, जिन पर से अक्सर हमारा ध्यान हट जाता हैं| केवल रेंकिंग पर अत्याधिक फोकस ना रखे, अपने विज़िटर्स या अपने क्लाइंट की अन्य आवश्यकताओ का भी ध्यान रखे|

9) केवल गूगल पर फोकस – (Focusing on Google Only)

अधिकांश एक्सपर्ट केवल गूगल पर अपना फोकस रखते हैं| यक़ीनन गूगल बेहद महत्वपूर्ण हैं, परंतु ट्रॅफिक के अन्य रिसौरसेज पर भी ध्यान लगाये|

10) वेबसाइट डिज़ाइन की अवहेलना  – (Ignoring Web Design)

काफ़ी लोग वेब डिज़ाइन को महत्व ना देने की ग़लती करते हैं और भूल जाते हैं कि एक वेबसाइट आपके और आपके ब्रांड के बारे मे काफ़ी कुछ बताती हैं| अतः उसका अच्छा दिखना और SEO फ्रेंड्ली होना बेहद आवश्यक हैं| अगर आप वेब डिज़ाइनिंग मे एक्सपर्ट नही हैं तो, अपनी वेबसाइट के डिज़ाइन का कार्य किसी एक्सपर्ट से करवाए|

नोट – हम अपने सभी visitors से अनुरोध करते है की अगर आप को ये ब्लॉग हेल्पफुल लगा हो तो अपने सभी मित्रो के साथ सांझा करे और देखते रहे और सीखते रहे धन्यवाद् |

SHARE
Previous articleक्लासिफाइड विज्ञापन (Classified Submission) क्या है? हिन्दी में
Next articleडायरेक्टरी सबमिशन (Directory Submission) क्या है? हिन्दी में
हेल्लो दोस्तों!मेरा नाम Nisha Sharma है, और मेरा experience डिजिटल मार्केटिंग में 3 साल से है, मुझे डिजिटल मार्केटिंग से Related Knowledge शेयर करना बहुत पसंद है जिससे आप लोगो को कुछ सिखने को मिल सके! मेरे जरिये अगर आप कुछ सीख पाएंगे तो ये मेरे लिए बहुत ही ख़ुशी की बात होगी! मै डिजिटल बादशाह में डिजिटल मार्केटिंग की सारी knowledge शेयर करुँगी जिससे आपको बहुत कुछ सिखने को मिलेगा तो दोस्तों अगर आप कुछ सीखना चाहते है तो हमारे साथ जुड़े रहें!

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here